अर्थशास्त्र क्या है? कला या विज्ञान! (What is Economics? Art or Science)

अर्थशास्त्र क्या है? कला या विज्ञान! (What is Economics? Art or Science) क्या अर्थशास्त्र एक विज्ञान है या कला ? इसमें विद्वानों के विभिन्न मत हैं। विशेषत: कला सैद्धांतिक जानकारी देती है, जबकि विज्ञान सैद्धांतिक जानकारी को व्यावहारिक रूप में प्रस्तुत करता है। विज्ञान उन परीक्षणों पर आधारित होता है।

जो कि नियंत्रित होते हैं तथा परिकल्पनाओं को संतुष्ट करते हैं। अर्थशास्त्र में मानव के व्यवहार का अध्ययन किया जाता है जो परीक्षणों पर आधारित न होकर प्रभाव को दर्शाता है।

अत: अर्थशास्त्र का विस्तृत क्षेत्र होने के कारण हम इसे कला एवं विज्ञान के मिश्रण के रूप में देखते हैं। पॉल सैमुल्सन के अनुसार, “अर्थशास्त्र न तो कला है और न ही विज्ञान है बल्कि यह विषय मानक शास्त्र एवं विज्ञान दोनों ही मुख्य विशेषताओं का संयोजन है।"

हम जानते हैं कि अर्थशास्त्र के अंतर्गत हम एक व्यक्ति, एक फर्म, एक समाज या एक अर्थव्यवस्था का अध्ययन करते हैं, इसलिए इसको एक सामाजिक विज्ञान भी कहते हैं।

कला अथवा विज्ञान!

कुछ दशकों पहले तक अर्थशास्त्र की पुस्तकों में यह चर्चा की जाती थी कि अर्थशास्त्र विज्ञान है या कला? विज्ञान हमें सैद्धांतिक ज्ञान देता है जबकि कला व्यावहारिक ज्ञान। अब अर्थशास्त्र हमें यह सिखाता है कि उत्पादक को अपना लाभ अधिकतम कैसे करना चाहिए तथा लाभ कैसे अर्जित करें ? यदि इस दृष्टि से देखें तो अर्थशास्त्र एक विज्ञान है। अर्थशास्त्र मे नव-सिद्धांतों के विकास में गणित का इतना योगदान है कि दिल्ली विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र ऑनर्स कोर्स में गणित का ज्ञान होना अति आवश्यक समझा जाता है। इस प्रकार अर्थशास्त्र एक वैज्ञानिक विषय है तथा विज्ञान प्रयोग द्वारा सिद्ध होता है।

इसलिये विज्ञान को एक नियंत्रित प्रयोग के लिये कार्यक्षेत्र उपलब्ध कराना चाहिये ताकि परिकल्पना को सत्यापित किया जा सके। परंतु मानव समाज प्रयोग का विषय नहीं है जो कि विभिन्न नीतियों का प्रभाव देख सके। इस दृष्टि से देखें तो अर्थशास्त्र एक कला है। कुछ विश्वविद्यालय अर्थशास्त्र में बी.ए. एवं एम.ए. की डिग्री प्रदान करते हैं तथा कुछ विश्वविद्यालय जैसे लन्दन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स अर्थशास्त्र में बी.एस-सी, एम.एस-सी की डिग्री प्रदान करते हैं।

वास्तव में अर्थशास्त्र का कार्यक्षेत्र इतना व्यापक है कि इसे विभिन्न वर्गों में विभक्त करना कठिन है। संभवत: यह कला एवं विज्ञान दोनों का मिश्रण है।

अर्थशास्त्र: एक सामाजिक विज्ञान

अर्थशास्त्र वास्तव में एक सामाजिक विज्ञान है। यह केवल व्यक्ति का अध्ययन नहीं करता बल्कि राष्ट्र एवं समाज की इकाई के संदर्भ में व्यक्ति का अध्ययन करता है। अर्थव्यवस्था राष्ट्र एवं समाज की तरह ही है किंतु इसका अध्ययन अर्थशास्त्र के संदर्भ में किया जाता है। प्रत्येक समाज एवं राष्ट्र में असंख्य लोग होते हैं जो किसी न किसी कार्य में लगे रहते हैं। कुछ लोग खेती में काम करते हैं, तो कुछ फैक्ट्रियों में और कुछ सेवा क्षेत्र में। जो कृषि क्षेत्र में कार्य करते हैं उन्हें औद्योगिक वस्तुओं एवं सेवाओं की आवश्यकता होती है। इसी प्रकार औद्योगिक क्षेत्र में कार्य करने वालों को कृषि एवं सेवा क्षेत्र की। इस प्रकार अर्थव्यव्स्था के तीनों क्षेत्र- कृषि, उद्योग एवं सेवा आपस में जुड़े हुए हैं।

6 comments:

Unknown said...

Aur kid kid needs kaha hai

Unknown said...

Mag se kya asay he


Unknown said...

अर्थशास्त्र एक कला है इसे समझाइए

Unknown said...

Arthshastra ki prakati evam kshetra ki vyakhiya kijiye

Unknown said...

Kya arthshastr
Yek
Samajik vigyan hai & praakretik vighan vyakhya keejiye

Anonymous said...

Answer Dijiye


Powered by Blogger.